Search Study Material

Monday, 1 June 2020

Percentage Shortcut Tricks PDF



Percentage Shortcut Tricks PDF

Percentage Shortcut Tricks PDF:- नमस्कार दोस्तों, आप सभी का Notes PDF पर स्वागत है. आज हम आपके साथ Percentage Shortcut Tricks PDF,  महत्वपूर्ण प्रश्न शेयर कर रहे है. हमारी Percentage Shortcut Tricks PDF आपके विभिन्न प्रतियोगिता परीक्षाओ में बहुत काम आएगी जैसे SSC CGL, MTS, CPO, RAS, UPSC, IAS and all state level competitive exams.

Percentage Shortcut Tricks PDF

Note:- हमने आपकी सुविधा के लिए निचे अलग अलग विषयों के लिंक दिए है जहां हर विषय की 50 से 60 PDF Free Download के लिए दी गई है.

Most Important General Knowledge Questions

Q.-96. दूसरा गोलमेज़ सम्मेलन कब हुआ था?
1. 17 नवम्बर, 1932
2. 12 नवम्बर, 1930
3. 7 सितम्बर, 1931
4. 7 सितम्बर, 1932
Answer: 3 [7 सितम्बर, 1931]
Explanation: गोलमेज़ सम्मेलन के दूसरे अधिवेशन की शुरुआत 7 सितम्बर, 1931 को हुई थी।
Q.-97. स्वतंत्रता आन्दोलन के दौरान केसरीनामक समाचार पत्र किसने शुरू
किया था?
1. सुभाष चन्द्र बोस
2. बाल गंगाधर तिलक
3. मोहम्मद अली जिन्नाह
4. लाला लाजपत राय
Answer: 2 [बाल गंगाधर तिलक]
Explanation: “केसरीसमाचार पत्र की स्थापना 1881 ईसवी में बाल गंगाधर तिलक द्वारा की गयी थी। केसरी अखबार मराठी में प्रकाशित होता था जबकि मराठाअखबार अंग्रेजी में प्रकाशित होता था।
Q.-98. 1906 में मुस्लिम लीग की स्थापना किस स्थान पर की गयी थी?
1. ढाका
2. नय्प्यिदाव
3. इस्लामाबाद
4. मस्कट
Answer: 1 [ढाका ]
Explanation: आल इंडिया मुस्लिम लीग की स्थापना 1906  में ढाका में की गयी थी, यह अलीगढ आन्दोलन से उभरकर आई थी। इसका प्रमुख उद्देश्य मुस्लिमो का अधिकारों की रक्षा करना था।
Q.-99. 1924-25 के वैकोम सत्याग्रह में किसने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई?
1. टी.के. माधवन
2. मुलूर एस. पद्मनाभ पनिक्कर
3. बलराम वर्मा
4. के. केलाप्पन
Answer: 4 [के. केलाप्पन ]
Explanation: यह सत्याग्रह त्रावनकोर में छुआछूत के विरुद्ध हुआ था। गुरुवायुर इस आन्दोलन के प्रमुख नेता थे, उन्होंने गांधीजी की प्रार्थना पर अनशन समाप्त किया था।
Q.-100. 1867 में नबगोपाल मित्रा ने हिन्दू मेला की शुरुआत किस स्थान पर की थी?
1. कलकत्ता
2. दिल्ली
3. इलाहाबाद
4. वाराणसी
Answer: 1 [कलकत्ता ]
Explanation: हिन्दू मेला की स्थापना 1867 में कलकत्ता में नबगोपाल मित्रा ने की थी, इसे चैत्र मेला भी कहा जाता था। यह राजनारायण बासु, द्विजेन्द्रनाथ टैगोर और नबगोपाल मित्रा के संयुक्त प्रयास का परिणाम था।


No comments:

Post a comment